GK Trick – वायुमंडल की परतें ( Layer of Atmosphere )

GK TRICK 

छोड सबको में आया बाहर

Explanation
छोड – छोभ मंडल
सबको – समताप मंडल
में – मध्य मंडल
आया – आयन मंडल
बाहर – बाहय मंडल

वायुमंडल क्या है ? ( What is the Atmosphere ? )

  • वायुमंडल पृथ्वी के चारों ओर हवा के विस्तृत भंडार को कहते हैं ! यह सौर विकिरण की लघु तरंगों को पृथ्वी के धरातल तक आने देता है , परंतु पार्थिव विकिरण की लंबी तरंगों के लिए अवरोधक बनता है ! इस प्रकार यह ऊष्मा को रोककर विशाल “ग्लास हाउस” की भांति कार्य करता है , जिससे पृथ्वी पर औसतन 15 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान बना रहता है  ! यही तापमान पृथ्वी पर जीव मंडल के विकास का आधार है !
  • यद्यपि वायु मंडल का विस्तार लगभग 29000 किलोमीटर ऊंचाई तक मिलता है ! परंतु वायु मंडल का 99% भार सिर्फ 32 किलोमीटर तक ही सीमित है !

वायुमंडल का संघटन ( Atmosphere Composition )

वायुमंडल में अनेक गैसों का मिश्रण है ! सर्वाधिक मात्रा में नाइट्रोजन तथा उसके बाद क्रमशा ऑक्सीजन , आर्गन व कार्बन डाइऑक्साइड का स्थान आता है  ! इसके अलावा जलबाष्प , धूल के कण तथा अन्य अशुद्धियां भी असमान मात्रा में वायुमंडल में मौजूद रहती हैं ! विभिन्न गैसों की 99% भाग  मात्र 32 किलोमीटर की ऊंचाई तक सीमित है , जबकि धूल कणों व जलवाष्प का 90% भाग अधिकतम 10 किलोमीटर की ऊंचाई तक मिलता है !
  1. नाइट्रोजन ( N2 ) – 78%
  2. ऑक्सीजन ( O2 ) – 21%
  3. आर्गन ( Ar ) – 0.93 %
  4. कार्बन डाइऑक्साइड – 0.03%


वायुमंडल की विभिन्न परतें ( Layer of Atmosphere )

वायुमंडल की परतों को मुख्यता पांच भागों में बांटा गया है – 

यह मण्डल जैव मण्डलीय पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है क्योंकि मौसम संबंधी सारी घटनाएं इसी में घटित होती हैं। 
1-क्षोभमण्डल ( 0 से 8/18  किमी )
  • मौसम संबंधी सभी परिवर्तन इसी में होनें के कारण इसे परिवर्तन मंडल भी कहते हैं !
  • प्रति 165 मीटर की ऊंचाई पर वायु का तापमान 1 डिग्री सेल्सियस की औसत दर से घटता है। इसे सामान्य ताप पतन दर कहते है।
  • इस मण्डल की सीमा विषुवत वृत्त के ऊपर 18 किमी की ऊंचाई तक तथा ध्रवों के ऊपर लगभग 8 किमी तक है।
  • ऊपरी क्षोभमंडल में जेट वायुधारा प्रवाहित होती है !
  • जलबाष्प , धूलकणों का अधिकांश भाग इसी में मिलता है ! 
2-समतापमण्डल 
  • इसका विस्तार 8 या 18 किमी से 50 किमी तक होता है !
  • इसमें ओजोन परत ( 15 से 35 किमी ) पाऐ जानें के कारण इसे ओजोन मंडल भी कहते हैं !
  • ओज़ोन गैस सौर्यिक विकिरण की हानिकारक पराबैंगनी किरणों को सोख लेती है और उन्हें भूतल तक नहीं पहुंचने देती है तथा पृथ्वी को अधिक गर्म होने से बचाती हैं।
  • इस मण्डल में प्रारंभ में तापमान स्थिर रहता है तथा 20 किमी के बाद बढनें लगता है ! ऐसा ओजोन गैसों की उपस्थिति के कारण होता है , जोकि पराबैगनी किरणों को अबशोषित कर तापमान बढा देती हैं !
  • समताप मण्डल बादल तथा मौसम संबंधी घटनाओं से मुक्त रहता है।
  • इस मण्डल के निचले भाग में जेट वायुयान के उड़ान भरने के लिए आदर्श दशाएं हैं।
3-मध्य मण्डल ( 50 से 80 किमी )
  • इसका विस्तार 50-55 किमी से 80 किमी तक है।
  • इस मण्डल में तापमान ऊंचाई के साथ घटता जाता है तथा लगभग -100 डिग्री सेंटीग़्रेट तक पहुच जाता है , जोकि वायुमंडल का न्युनतम तापमान हैं ! व इसकी ऊपरी सीमा से बाद पुन: ताप में व्रद्धि होने लगती है ! 
4-आयन मण्डल ( 80 से 640 किमी )
  • इस मण्डल में ऊंचाई के साथ ताप में तेजी से वृद्धि होती है।
  • इसमें विद्युत आवेशित कणों की अधिकता होती है ,जिहें आयन कहा जाता है ! इन्ही की अधिकता के कारण इस मंडल का नाम आयन मंडल है ! ये कण रेडियो तरंगों को भूपृष्ठ पर परावर्तित करते हैं और बेतार संचार को संभव बनाते हैं।
5-बाह्यमण्डल ( 640 किमी से ऊपर )
  • इसे वायुमण्डल का सीमांत क्षेत्र कहा जाता है। इस मण्डल की वायु अत्यंत विरल होती है।
  • यहां गैसों का घनत्व बहुत कम पाया जाता है , यहां हाइट्रोजन व हीलियम गैसों की प्रधानता होती है ! 
तो दोस्तो उम्मीद है कि आपको वायुमंडल की संपूर्ण जानकारी मिल गई होगी ! इसमें मुख्य समस्या आती है सभी परतों को नीचे से ऊपर क्रमबद्ध याद करने की कि कौन सी परत पहले है और कौन सी बाद में ! तो दोस्तो इसके Solution के लिये हम आपको नीचे एक ट्रिक बता रहे हैं जिससे कि आप सभी परतों को नीचे से ऊपर क्रमबद्ध रूप से याद रख पाऐंगे ! 

No comments:

Post a comment